Subscribe Us

पढ़ाई में मन कैसे लगाएँ? How to Increase CONCENTRATION | Best Power Study Motivational

पढ़ाई में मन कैसे लगाएँ? How to Increase CONCENTRATION | Best Power Study Motivational


भिखारी को खाना देकर आप उसका एक बार पेट भरेंगे, लेकिन उसको कमाना सीखा दे वह पूरे जीवन भर पेट भरना सिखा जायेगा।

वैसे ही किसी छात्र को पढ़ा कर एक बार सहायता कर देंगे, लेकिन उसे पढ़ने के तरीके सिखाकर जीवन भर खुद पढ़ने लायक बना देंगे।

आओ इस article में देखें और समझे कि, किस तरह हम हमारी पढ़ाई को ज्यादा प्रभावशाली बना सकते हैं। सबसे पहले अपने आप को प्रोत्साहित करें कि आपको क्यों पढ़ना चाहिए, पढ़ाई से आपको क्या-क्या फायदे होने वाले हैं। बड़े सपने देखे, बड़ी ऊंचाइयां छूने के लिए। अपने भविष्य की बड़ी तस्वीर देखे। अब्दुल कलाम ने कहा था, सपने वह नहीं होते जो नींद में देखे जाते हैं, सपने वह होते हैं जो सोने ही नहीं देते हैं सोचे आपको जो ज्ञान होगा उस ज्ञान से क्या-क्या फायदे होंगे, आपके कितने सपने पूरे होंगे। आप का आगे आने वाला जीवन कितना आसान हो जाएगा। आपका, बड़े से बड़ा सपना पूरा हो जाएगा, आपका समाज और शहर में कितना नाम होगा।

यह भी सोचे कि अगर पढ़ाई नहीं की तो, उसका आपके आगे वाले जीवन पर क्या प्रभाव पड़ेगा। आपका जीवन कितना मुश्किलों भरा हो जाएगा। सोचें आपके जीवन पर आपकी आज की सफलता और असफलता का आज से 5, 10, 20, 30 साल बाद क्या असर होगा। सोशल मीडिया, Mobile Games और दूसरी इंटरेस्टिंग चीजों से दूरी बनाए रखें। जब तक आप दूसरी चीजों में ज्यादा इंटरेस्टेड हो, आपको पढ़ाई में इंटरेस्ट नहीं आएगा।

इसलिए पढ़ाई में इंटरेस्ट डेवलप करने के लिए आपको सोशल मीडिया और दूसरे इंटरेस्टिंग चीजों से दूर रहना ही पड़ेगा । पढ़ाई के विषयों में रुचि पैदा करने की कोशिश करें। रूचि पैदा करने के लिए उन विषयों के प्रैक्टिकल उपयोगों के बारे में सोचें। विषयों को दोस्तों से डिस्कस करें। मन नहीं लगता, समझ में नहीं आता, इन सब चीजों के पीछे केवल एक ही कारण है। कि हमें सब्जेक्ट में इंटरेस्ट नहीं है। हमें सब्जेक्ट की गहराई में जाने की इच्छा नहीं होती है।

हमें लगता हमारा समय खराब हो रहा है। हम शॉर्टकट ढूंढने की कोशिश करते हैं। क्योंकि हम उस विषय की महानता को समझ ही नहीं पाए।

सब्जेक्ट के बारे में जानने की कोशिश करें या किसी से पूछे कि यह सब्जेक्ट हम क्यों पड़ रहे हैं। उस का हमारे जीवन में क्या उपयोग है। कोई भी विषय केवल परीक्षा पास करने के लिए नहीं बल्कि अपना ज्ञान बढ़ाने के लिए पढ़े। आपके हर प्रश्न का जवाब आपकी किताब में है, इसलिए कहीं और ढूंढने की कोशिश ना करें। साफ-सुथरी जगह पर बैठकर पड़े, अपने विषय से संबंधित किताबें ही अपने पास रखें। पढ़ाई हमेशा एकांत में करें। पढ़ाई करने की जगह पर सिर्फ पढ़ाई करें कोई और एक्टिविटी नहीं करें। पढ़ने बैठने के पहले जो खाना हो खा ले, पीना हो पी लें, जिसे जो बोलना है बोल दे, और मोबाइल फोन,, कंप्यूटर, म्यूजिक सिस्टम, न्यूज़पेपर को बाहर कर दे।

पेंसिल, पेन और अन्य चीजें जो आपको जरूरत पड़ सकती हो, उन्हों पहले से ही टेबल पर रखें ताकि बीच में नहीं उठाना पड़े। अगर काफी देर पढ़ाई करने के बाद पढ़ाई में मन नहीं लग रहा तो उसी समय उठ जाए थोड़ा बाहर घूम कर आये, थोड़ी देर कुछ और एक्टिविटी करें उसके बाद फिर से बैठें।

बिना मन लगाए कभी पढ़ाई की जगह पर ना बैठे रहे। ऐसी आदत आपको पढ़ने में आलसी बना सकती है। लक्ष्य कर पढ़ाई करें। पढ़ने बैठे तो कुछ सीख कर ही उठे। उठने के बहाने नहीं ढूंढे। अगर लक्ष्य करके पड़ेगे तो आपका जरूर मन लगेगा। पढ़ाई करते समय और परीक्षाओं में कभी तनाव में ना रहे, अपने आप को रिलैक्स रखे। बैठ कर दो मिनट आंखें बंद करके अपने आप से बातें करें। अपने दिमाग को शांत करें, और निश्चय करें कि मैं पूरी तरह से इस टॉपिक को समझकर ही यहां से उठूंगा। जब तक आप पढ़ेगे तब तक पढ़ाई के अलावा किसी और चीज के बारे में नहीं सोचेंगे। पूरे ध्यान से पढ़ेगे । आप जो पढ़ने जा रहे हैं वह बहुत ही आसान है। और आप अच्छी तरह समझ कर ही उठेंगे। कोई भी विषय या चैप्टर तभी तक कठिन होता है जब तक वह हमें समझ में नहीं आता है इसलिए किसी भी विषय या चैप्टर को डिफिकल्ट मानने से पहले ही पढ़ना शुरू करें। अपने आप से कहें, अपनी इच्छा शक्ति बढ़ाएं कि अगर कोई और कर सकता है तो मैं भी कर सकता हूं मैं किसी से कम नहीं हूं। सफल लोगों के बारे में जाने और प्रेरणा लें। जब पढ़ रहे हो उस समय पढ़ाई के अलावा किसी भी चीज के बारे में ना सोचे अगर मन में कोई विचार आता है तो उसे बाद के लिए टाल दे। पढ़ाई में निरंतरता बनाए रखें और अपनी पढ़ाई को और अधिक प्रभावशाली बनाने की कोशिश करें। पढ़ाई की गति को हर समय बढ़ाते रहें कम से कम समय में ज्यादा से ज्यादा समझे और सीखें।

समय का सदुपयोग करें। पढ़ाई में अनुशासन का पालन करें। पढ़ाई के लिए उचित रणनीति, योजना और Time-table बनाएं और उनका कठोरता से निष्पादन करें जो की बहुत ही महत्वपूर्ण है किसी भी कंपटीशन मैं आसानी से सफल होने के लिए। पेड़ काटने से पहले कुल्हाड़ी को पैना करें - अधिक से अधिक समय अपने दिमाग को तेज बनाने में खर्च करें। नौकरीयो का बाजार तेजी से बदल रहा है इसलिए नई-नई चीजें सिखने के लिए अपने दिमाग को तैयार करे। समझने, पढ़ने और अधिक प्रभावशाली होने के नए-नए तरीके अपनाएं। पढ़ने बैठे उस समय अपने आप को याद दिलाएं कि यह समय फिर वापस नहीं आएगा इसलिए पूरी उर्जा के साथ पढ़ना है। आपके लिए करो या मरो जैसी हालत है आलस्य से बचें पढ़ाई के अलावा दूसरे काम भी जल्दी-जल्दी करने की कोशिश करें। बहुत कम और बहुत ज्यादा ना सोये। सुबह के समय पढ़े। रात को सोने से पहले बेड पर लेटे हुए एक बार दिन भर में जो पढ़ा उसे दिमाग में सोचें उसे दिमाग में ही picture फॉर्म में रिवाइज करेंl अपने दिमाग में हर चीज की बड़ी पिक्चर बनाएं चीजों के बड़े-बड़े उपयोगों के बारे में सोचें आप उन चीजों से क्या नया और अलग कर सकते है उसके बारे में सोचें। चलते फिरते जो भी चीजें देखें उनके बारे में सोचे कि अपना सीखा हुआ ज्ञान उन पर कैसे apply हो रहा है या आप कैसे apply कर सकते हैं। क्या, कैसे, कब, क्यों, जैसे सवाल दिमाग में लाने और उनका उत्तर देने की कोशिश करें। पढ़ते समय बीच-बीच में यह भी सोचें कि आपको पढ़ाई से फायदा हो रहा है या नहीं, दिमाग में कुछ जा रहा है या नहीं। अपने आप को पहचाने और समझे कि आप और ज्यादा प्रभावशाली कैसे हो सकते हैं। कभी-कभी यह भी सोचे कि आपको मन लगाकर पढ़ाई करने से क्या-क्या फायदे हो रहे हैं और भविष्य में हो सकते हैं इस पढ़ाई से आपको क्या मिलने वाला है। बिना समझे कुछ ना पड़े जो चीज समझ में नहीं आ रही उसी पर लगे रहने की बजाय उसे थोड़े समय के लिए छोड़ दें।

आप उसके बारे में रात को सोने से पहले सोच सकते हैं। जब आप सो रहे होंगे आपका दिमाग उस चीज को समझने की कोशिश करेगा आप चलते फिरते भी उस चीज के बारे में सोच सकते हैं कई बार बहुत ही मुश्किल चीजे चलते फिरते समझ में आ जाती है जो कि आपके लिए यूरेका मोमेंट्स हो सकते हैं। हर छोटी-छोटी सफलताओं को सेलिब्रेट करें उनके बारे में खुश होकर और अपने आप को शाबाशी दे। परीक्षाएं आपकी मानसिक परिपक्वता और प्रॉब्लम सॉल्विंग स्किल्स देखने के लिए होती है इसलिए उनकी तैयारी के लिए रट्टा कभी ना मारे।

Post a Comment

0 Comments